Breaking News

UP Assembly Budget Session : विपक्ष के शोर के बीच राज्यपाल ने सख्त हिदायत के साथ पढ़ा अपना पूरा अभिभाषण


लखनऊ, 02 जनवरी 2024 (आईपीएन)। उत्तर प्रदेश विधानमंडल के बजट सत्र की शुरुआत पूर्व की तरह विपक्ष के हंगामे के बीच शुक्रवार दो फरवरी से हो गई। राज्यपाल आनन्दीबेन पटेल को हर बार की तरह इस बार भी अपना अभिभाषण विपक्ष के शोर-शराबे के बीच ही पढ़ना पड़ा। लेकिन इस बार अपना अभिभाषण पढ़ने के दौरान करीब 4 बार राज्यपाल ने विपक्ष को सख्त हिदायत दी। उन्होंने विपक्ष के राज्यपाल गो बैक और राज्यपाल वापस जाओ के नारों के बीच सख्त लहजे में कहा कि कौन चला जायेगा ये तो बाद में पता चलेगा। उन्होंने कहा कि मैं जाने वाली नहीं हूं। 
आज शुरू हुए बजट सत्र की शुरूआत में खास बात यह भी रही कि जहां सत्ता पक्ष के सभी विधायक रामनामी का पटका पहने हुए थे तो वहीं योगी सरकार के दोनों उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक रामनामी का साफा बांधे हुए सदन में नज़र आये। उधर मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी के विधायक लाल टोपी और लाल पटका पहने हुए लाल रंग के ही लिखे हुए बैनर लेकर सदन में मौजूद थे। सदन में जहां सत्ता पक्ष के विधायकों ने जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे लगाये तो वहीं विपक्ष की ओर से जय समाजवाद और बाबा साहब अमर रहें के नारे गूंजे। 
सदन की शुरूआत होते ही शुक्रवार की सुबह 11ः00 बजे वन्दे मातरम के बाद उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने विधानमंडल के संयुक्त सत्र को संबोधित किया। उनके पहुंचते ही एक ओर जहां जय श्री राम के नारे लगे तो वहीं विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया। विपक्ष के राज्यपाल वापस जाओ, राज्यपाल गो बैक, इन्कलाब जिन्दाबाद और तानाशाही नहीं चलेगी के साथ-साथ सपा विधायकों ने अखिलेश यादव जिन्दाबाद के नारे लगाये। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने जोरदार हंगामे के बीच 56 मिनट 15 सेकेण्ड में अपना पूरा अभिभाषण पढ़ा। साथ ही उन्होंने विपक्ष को पहली बार की अपनी हिदायत में कहा कि ‘अब चुप हो जाओ’। दूसरी बार में उन्होंने कहा कि कौन चला जायेगा ये तो बाद में पता चलेगा। मैं जाने वाली नहीं हूं। तीसरी बार में आनन्दीबेन पटेल ने विपक्ष की ओर मुखातिब होते हुए कहा कि 7 साल पहले यूपी बीमारू राज्य था, आज देख लो। विपक्ष की जोरदार नारेबाजी के बीच राज्यपाल ने चौथी बार में कहा कि नारा लगाने में आप लोग पीछे रह गये और ये लोग आगे चले गये। इस दौरान सदन में नेता प्रतिपक्ष अखिेश यादव और नेता सदन योगी आदित्यनाथ मौजूद थे।
 
क्या कह रहे विपक्ष के 15 बैनरों पर लिखे नारे -
विपक्ष अपने बैनरों पर लिखे नारों के माध्यम से प्रदेश की स्थिति को सरकार और राज्यपाल को बताने का प्रयास कर रहा था। जो निम्नलिखित हैं-
1. शिक्षामित्रों को स्थायी शिक्षक का दर्जा दो।
2. पीडीए ही एनडीए को हरायेगा।
3. सामाजिक न्याय का नारा है, पीडीए के साथ देश सारा है।
4. न रोजगार न स्वरोजगार, युवाओं पर हो रहा अत्याचार।
5. पिछडे़, दलित, अल्पसंख्यक, मुसलमान, भाजपा सरकार में सब परेशान।
6. प्रदेश में बुलडोजर का आतंकवाद, यूपी की कानून व्यवस्था बर्बाद।
7. प्रदेश में गरीबों का हो रहा शोषण, भाजपा सरकार भू-माफियाओं का कर रही पोषण।
8. थाने तहसील में चरम पर भ्रष्टाचार, जनता पर बंद करो अत्याचार।
9. हर विभाग में हो रहा भ्रष्टाचार, भाजपाईयों के लिए बुलडोजर बर्बाद।
10. बिजली मंहगी, मीटर हाई, झूठे निकले ये भाजपाई।
11. मो. आज़म खां परिवार पर अत्याचार बंद करो-बंद करो।
12. ये जनता का पैसा खाते हैं, घपलेबाज सरकार चलाते हैं।
13. सत्ता में जनविरोधी भाजपाई हैं, ये सरकार पीडीए का हक छीनने आयी है।
14. किसानों को एमएसपी की गारन्टी दो-गारन्टी दो।
15. महिलाओं पर अत्याचार बंद करो-बंद करो।

Leave a Comment

Previous Comments

Loading.....

No Previous Comments found.